Mitron, Chingari इनमें से कौन है TikTok का best Alternative



एक सप्ताह पहले ही भारत सरकार ने TikTok समेत 59 ऐप्स को बैन कर दिए, जिनमें से ज्यादातर ऐप्स चाइनीज थे। सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा कारणों से इन ऐप्स को बैन करने का फैसला किया था, क्योंकि इन ऐप्स के जरिए भारतीय यूजर्स के डाटा प्राइवेसी पर खतरा था। इन ऐप्स के बैन होते ही भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स जैसे कि ShareChat, Roposo, Mitron और Chingari, TikTok के अल्टर्नेटिव के तौर पर लोकप्रिय हो गए। इन ऐप्स की लोकप्रियता का आलम ये रहा कि हर घंटे इन ऐप्स के 3 से 5 लाख तक डाउनलोड होने लगे। जैसा कि डाउनलोड्स को किसी भी ऐप के ग्रोथ के पहले कदम के तौर पर जाना जाता है, इन प्लेटफॉर्म्स के लिए यूजर्स को होल्ड करना सबसे बड़ी चुनौती है। ऐसा कई बार होता है कि नए ऐप्स के सर्वर्स यूजर्स बढ़ने के बाद क्रैश होने की समस्या आती है। आइए, जानते हैं इन सभी ऐप्स के बारे में..


ShareChat, Roposo, Mitron, Chingari इनमें से कौन है TikTok का बेस्ट अल्टर्नेटिव?




ShareChat

भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स की बात करें तो ShareChat की एंट्री साल 2015 में हुई थी यानी कि TikTok की पैरेंट कंपनी ByteDance की भारतीय बाजार में एंट्री से पहले। पिछले कुछ दिनों में इस प्लेटफॉर्म पर हर घंटे 5 लाख डाउनलोड्स रिकॉर्ड किए जा रहे हैं। इस ऐप के हर दिन 10 से 12 मिलियन नए यूजर्स बढ़ रहे हैं। इस समय ShareChat के 200+ मिलियन रजिस्टर्ड और 60 मिलियन एक्टिव यूजर्स हैं।


पिछले दिनों ही ShareChat ने अपने शॉर्ट वीडियो मेकिंग प्लेटफॉर्म Moj को चुपके से लॉन्च किया है। लॉन्च के महज 6 दिनों के भीतर ही इस ऐप के 10 मिलियन से ज्यादा डाउनलोड्स हैं। इस ऐप का लोकप्रियता का आलम यह है कि इस प्लेटफॉर्म पर प्रोफाइल पेज और क्रिएशन टूल एक्टिव नहीं होने के बाद भी ये यूजर्स के बीच लोकप्रिय हो रहा है। जल्द ही इसके लिए मैजिक वीडियो क्रिएशन टूल्स प्ले-स्टोर पर जुड़ने वाला है।

Roposo

फिलहाल भारत में इस शॉर्ट वीडियो मेकिंग ऐप के सबसे ज्यादा एक्टिव यूजर्स हैं। इस ऐप को शुरुआत में एक फैशन प्लेटफॉर्म के तौर पर लॉन्च किया गया था। बाद में इसे एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के तौर पर डेवलप किया गया। इस ऐप के 65+ मिलियन रजिस्टर्ड यूजर्स हैं। TikTok बैन होने के बाद इस प्लेटफॉर्म के यूजर्स की संख्या 50 मिलियन से बढ़कर 75 मिलियन तक पहुंच गई। इस ऐप के भी पिछले कुछ दिनों में हर घंटे 5 लाख डाउनलोड्स रिकॉर्ड किए जा रहे हैं। इस समय यह ऐप भी TikTok के बेहतर विकल्पों में से एक विकल्प के तौर पर शामिल है।


Chingari

Chingari शॉर्ट वीडियो मेकिंग प्लेटफॉर्म को लॉन्च हुए अभी महज कुछ दिन ही हुए हैं। इस ऐप को भी TikTok बैन होने के बाद अच्छा रिस्पॉन्स मिला है। इस ऐप के हर घंटे 3 लाख डाउनलोड्स रिकॉर्ड किए जा रहे हैं। Moj की तरह ही Chingari में भी क्रिएशन टूल नहीं है। हांलाकि, इस ऐप के लिए क्रिएशन टूल कब रोल आउट किया जाएगा, ये साफ नहीं है। एथिकल हैकर Eliot Anderson ने पिछले दिनों ट्वीट करके इस ऐप के सिक्युरिटी पर सवाल उठाए हैं। 


वहीं, एक और दावा सामने आया है, जिसमें कहा गया है कि इस ऐप के 80 फीसद से ज्यादा यूजर्स फर्जी हैं। इस आईडी को केवल वीडियो अपलोड करने के लिए क्रिएट किए गए हैं। हालांकि, हम ऐसा कोई दावा नहीं करते हैं। हम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर इस ऐप को लेकर जो भी दावे सामने आ रहे हैं उसे रिपोर्ट कर रहे हैं।


Mitron

पिछले महीने लॉन्च हुए शॉर्ट वीडियो मेकिंग प्लेटफॉर्म Mitron भी लॉन्च के साथ विवादों में घिर गया। इस ऐप को लेकर पाकिस्तानी लिंक होने की बाद पहले भी सामने आ चुकी है। इस प्लेटफॉर्म के फिलहाल 10 मिलियन से ज्यादा डाउनलोड्स हैं। इस ऐप में भी कई तरह के सिक्युरिटी खामियां निकलकर सामने आईं हैं। सबसे पहले जो खामी सामने आई है वो ये कि पाकिस्तानी TikTok क्लोन TicTic के सोर्स कोड के आधार पर इसे तैयार किया गया है। पिछले दिनों इसे Google Play Store से सस्पेंड भी कर दिया गया था।


नए अल्टर्नेटिव्स के लिए चुनौती

सिक्युरिटी: इन नए ऐप्स के लिए भी सिक्युरिटी कंसर्न सबसे बड़ी चुनौती है। जैसा कि Chingari और Mitron ऐप को लेकर जो भी बातें सामने आ रहीं हैं, उसे देखकर यही लग रहा है कि इन ऐप्स को डाउनलोड करने से पहले यूजर्स को सावधानी बरतनी चाहिए।

सर्वाइवल: यह देखना दिलचस्प होगा कि TikTok के ये अल्टर्नेटिव्स किस तरह अपने आप को सर्वाइव कर पाते हैं। खास तौर पर Chingari और Mitron की बात करें तो ये बहुत ही छोटे प्लेयर्स हैं, जिन्हें सर्वर्स के लिए भुगतान करना पड़ रहा है। साथ ही, CDNS और सिक्युरिटी एक्सपेंसेज भी हैं जिन्हें कंपनी को वहन करना पड़ेगा। दोनों ही ऐप्स ने सोर्स कोड खरीद करके प्लेटफॉर्म को डेवलप किया है। ऐसे में यूजर्स को यूनिक एक्सपीरियंस के लिए कुछ इनोवेशन की भी जरूरत होगी, जिनके लिए इन प्लेटफॉर्म्स को फाइनेंशियली तैयार रहना होगा।

कंटेंट मोडरेशन और कम्युनिटी गाइडलाइन्स: ShareChat और Roposo को छोड़ दें तो अन्य किसी भी ऐप्स के पास कंटेंट मोडरेशन का कोई भी प्रोसेस नहीं है। ShareChat के पास एक कड़ी कम्युनिटी गाइडलाइंस है। कंटेंट मोडरेशन के स्ट्रॉन्ग अप्रोच के बिना कोई भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हेट मैसेजेज और भद्दे कंटेंट का एक अड्डा बन सकता है। ऐसे में यूजर्स को किसी भी ऐप को डाउनलोड करने से पहले उसके हर आसपेक्ट के बारे में सोचना चाहिए।

निष्कर्ष

भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स इन दिनों TikTok के बैन होने के बाद सामने आए मौके को हाथों-हाथ लेना चाहते हैं। ऐसे में Chingari और Mitron फिलहाल कई मोर्चे पर Roposo और ShareChat से पीछे होते दिखाई दे रहे हैं। Roposo इस समय भारतीय बाजार में सबसे बड़ा कंटेंडर बनकर उभर रहा है। इसे भारतीय यूजर्स TikTok के क्लोन के तौर पर देख रहे हैं। वहीं, ShareChat की बात करें तो इसके पास काफी लंबा तजुर्बा है, जिसकी वजह से इसे अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से थोड़ा ज्यादा एडवांटेज मिल रहा है। इसके हाल ही में लॉन्च हुए शॉर्ट वीडियो मेकिंग प्लेटफॉर्म Moj से Roposo समेत अन्य ऐप्स को कड़ी चुनौती मिलने जा रही है।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Hindihelp.co provides all the latest official news, News in various sectors such as Education, Bollywood, Technology, International News one place.